Sporlac DS in Hindi

Sporlac DS in Hindi

Sporlac DS  क्या है? – What is Sporlac DS?

Sporlac DS एक प्रोबायोटिक (एक प्रकार के खाद्य पदार्थ जिसमें जीवित जीवाणु या सूक्ष्मजीव शामिल होते हैं) दवा है जो बच्चों के लिए बहुत उपयोगी है। इसका उपयोग दस्त, आँतों की अनियमिताओं में और पोषण संबंधी विकारों के इलाज़ में होता है।

स्पोरलैक एक प्राकृतिक प्रोबायोटिक के ब्रांड का नाम है जो टेबलेट की तरह बाज़ार में मिलता है। स्पोरलैक डी एस का निर्माण Sanzyme Private Limited द्वारा किया जाता है। यह दवा की दूकान पर १० गोली के पत्ते में मिलता है। इसका इस्तेमाल सबसे ज्यादा एंटीबायोटिक्स के साथ किया जाता है। प्रोबायोटिक उपयोगी बैक्टीरिया की पूर्ति करता है जिसके फल स्वरुप दस्त, पेट दर्द और पेट फूलने के लक्षण कम होते हैं।

आइये जानते हैं की स्पोरलैक डी एस कैसे काम करता है, इसको लेने के क्या दुष्परिणाम हैं, क्या सावधानियां बरतनी चाहिए और कब स्पोरलैक डी एस नहीं लेना चाहिए।

Read about Sporlac DS in English

Sporlac DS की संरचना

स्पोरलैक डी एस टेबलेट में लैक्टोबैसिलस (ग्राम पॉजिटिव बैक्टीरिया) सक्रिय सामग्री के रूप में उपलब्ध रहता है।

स्पोरलैक चिकित्सा अनुसंधान की श्रेष्ठ कृति है। यह बीज निर्माण करने वाले लैक्टिक एसिड बेसिलस से बना है। हर टेबलेट में लैक्टिक एसिड बेसिलस के कम से कम 6 करोड़ बीजाणु होते हैं। यह बहुत मज़बूत होते हैं और पेट के अम्ल में भी जीवित रहते हैं। स्पोरलैक डी एस आँतों में रहने वाले उपयोगी जीवणुओं का एक बड़ा और मुख्य भाग है।

निर्माता – Sanzyme Private Limited (पुराना नाम था UNI Sankyo Ltd)
पर्चा – जरूरी है
रूप – टेबलेट, कैप्सूल और पाउच
दवा का प्रकार – प्रोबायोटिक दवा

Sporlac DS कैसे काम करता है ?

स्पोरलैक अच्छे बैक्टीरिया और यीस्ट का मिश्रण है। यह आँतों की अम्लता बढ़ाता है, लैक्टिक एसिड बनाते हुए सूक्षम पोषक तत्वों के अवशोषण में मदद करता है और पाचन तंत्र को मजबूत करता है।

Sporlac DS का उपयोग और लाभ

स्पोरलैक डी एस निम्न लक्षणों और बीमारियों के बचाव, रोकथाम और इलाज में दी जा सकती है-

  • दस्त लगना
  • अस्पताल में भरती होने पर, या दूसरी दवा लेने से होने वाले दस्त
  • योनी में इन्फेक्शन
  • कीमोथेरेपी
  • एंटीबायोटिक का इलाज़
  • इरीटेबल बोवल सिंड्रोम (Irritable bowel syndrome)
  • पाचन सुधार के लिए
  • पाचन तंत्र की तकलीफ
  • त्वचा रोग
  • दूध और उससे बनी चीज़ों से एलर्जी
  • फेफड़ों का इन्फेक्शन
  • शक्कर न पचा पाने पर
  • प्रतिरोधक तंत्र मजबूत करने के लिए
  • पाचन तंत्र में छाले होने पर

Sporlac DS के दुष्प्रभाव

यह प्रोबायोटिक दवा बहुत ही प्रभावी है और इससे शायद ही कभी कोई दुष्प्रभाव हो. अगर कोई बुरा प्रभाव हुआ भी तो बहुत हल्का पाचन तंत्र सम्बन्धी होगा। कुछ प्रभाव ये हो सकते हैं-

  • गैस बनना
  • पेट फूलना
  • पाचन तंत्र की कमजोरी

कृपया ध्यान दें- अगर आपको इसके अलावा कोई लक्षण दिखे तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें.

Sporlac DS की खुराक

खुराक बहुत से पहलुओं पे निर्भर करती है। डॉक्टर की बताई अवधि तक पूरी दवाई लें। आम तौर पर दिन में 2-2 टेबलेट्स तीन बार या दिन में दो बार 1 पाउच 5 से 7 दिन तक ले सकते हैं।

Sporlac DS के उपयोग की विधि और सावधानियां

स्पोरलैक डी एस लेने से पहले अपने डॉक्टर को जरूर बता दें की आप कौनसी दवाईयां ले रहे हैं। यदि बिना परामर्श के कोई दवा लेते हैं, यदि कोइ एलर्जी थी या है, स्वास्थ सम्बंधि कोई भी बात हो, गर्भवती होने की स्थिति में या आने वाले समय मे कोई ऑपरेशन होना हो तो अपने डॉक्टर को सूचित कर दें।

  • कुछ बीमारियों में इस दवा के दुष्प्रभाव ज्यादा सामने आते हैं
  • अपने चिकित्सक के बताये अनुसार ही दवा लें, या जैसा दवा के साथ मिले पर्चे पे छपा हो वही खुराक लें
  • दवा की खुराक आपकी तबियत पर निर्भर करती है
  • दवा के पैकेट पे लिखी एक्सपायरी डेट निकल जाने के बाद कभी भी इसका सेवन न करें
  • दवाई को बच्चों की पहुंच से दूर रखें
  • कभी भी लिखी हुई खुराक से ज्यादा न लें
  • अगर दवा लेते हुए तबियत और खराब हो जाये या बिलकुल सुधार न हो रहा हो तो तुरंत अपने डॉक्टर को बतायें

निम्नलिखित परिस्थितियों में खास सावधानी बरतने की जरूरत है-

  • तीन साल से छोटे बच्चे
  • अगर तेज बुखार हो
  • अगर मरीज अतिसंवेदनशील है
  • अगर मरीज को आँतों का इन्फेक्शन है
  • अगर पहले एड्स हो चुका है, ऑर्गन ट्रांसप्लांट हो चुका है, प्रतिरोधकता कम है, या शौर्ट बौवल सिंड्रोम है
  • गर्भावस्था में या स्तनपान करवाती हैं तो
  • इस दवा को एंटीबायोटिक्स लेने के दो घंटे पहले या बाद में लें
  • किसी भी दोस्त या सम्बन्धी की सलाह पर दवा न लें, अपने चिकित्सक से संपर्क करें। उसी प्रकार किसी को भी सिर्फ इसीलिए दवा न दें की लक्षण आपसे मिलते-जुलते हैं।

दूसरी दवाइयों के साथ प्रभाव

अगर स्पोरलैक डी एस  किसी और दवा के साथ लिया जाये तो उसका असर बदल सकता है, फिर भले वो दवा किसी चिकित्सक ने लिखी हो य आपने स्वयं दवा कि दुकान से ले ली हो। ऐसा करने से दवा के दुष्प्रभाव बढ़ सकते हैं या दवा की कार्य प्रणाली भी प्रभवित हो सकती है। यदि आप चिकित्सक को अपनी स्वास्थ सम्बंधी तकलीफों से पहले ही अवगत करा दें तो इन दुष्परिणामों से बचा जा सकता है। निम्न्लिखित दवायें स्पोरलैक डी एस  के साथ मिलने पर दुष्प्रभावित करती हैं –

  • प्रतिरोधकता कम करने वाली दवाइयां
  • एंटीबायोटिक्स

निषेध

स्पोरलैक डी एस के उपयोगों के साथ कुछ दुष्प्रभाव भी हैं इसलिए निम्नलिखित बीमारियों में इसे लेना निषेध है-  

  • तेज बुखार
  • आँतों का तीव्र इन्फेक्शन
  • हाईपरसेंसीटीविटी (अतिसंवेदनशीलता)

Sporlac DS के विकल्प

निम्नलिखित दवाइयां संरचना में स्पोरलैक डी एस  जैसी ही हैं। अतः आपके डॉक्टर स्पोरलैक डी एस के विकल्प के रूप में ये दवाई दे सकते हैं-

  • Becelac PB कैप्सूल –Dr Reddy’s Laboratories Ltd द्वारा निर्मित
  • Lactobacil plus– Piramal Healthcare Limited द्वारा निर्मित
  • Lactrol Forte Granules – Raptakos Brett & Co Ltd द्वारा निर्मित
  • Sporlac – Sanzyme Ltd द्वारा निर्मित
  • Lactiflora Sachet – Dr Reddy’s Laboratories Ltd द्वारा निर्मित
  • Lactrol Granules – Raptakos Brett & Co Ltd द्वारा निर्मित
  • Darolac Sachet – Aristo Pharmaceuticals Pvt Ltd द्वारा निर्मित
  • Benspore टेबलेट्स – Vanguard Therapeutics Pvt Ltd द्वारा निर्मित
  • Lactab टेबलेट्स – Sbeed Pharmaceuticals द्वारा निर्मित
  • Alacforte –Alliance Remedies द्वारा निर्मित

अगर किसी कारण से एक अनुभवी डॉक्टर आपके आस-पास उपलब्ध नहीं है, तो आप यहां हमसे संपर्क कर सकते हैं।

Reviews

Sporlac DS in Hindi
0.0 rating based on 12,345 ratings
Overall rating: 0 out of 5 based on 0 reviews.
Name
Email
Review Title
Rating
Review Content

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *