पेरासिटामोल (Paracetamol) – उपयोग, साइड-इफेक्ट्स और अन्य जानकारी

पेरासिटामोल (Paracetamol) सामान्य रूप से उपयोग की जाने वाली दवा है जो नॉन स्टेरॉडल एंटी-इनफ्लेममेटरी ड्रग्स (NSAID) समूह की दवाइयों में शामिल है. इस दवा का मुख्य उपयोग बुखार और सूजन को कम करना है. (NSAID) समूह की अनेक दवाइयों में यह एसपिरिन से सबसे अधिक मिलती जुलती दवा है. पेरासिटामोल एक आसानी से मिलने वाली OTC (ओवर-दा-काउंटर) दवा है, जिसका मतलब है की आप इस दवा को किसी भी फार्मेसी (दवा की दुकान) से बिना डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन से ले सकते हैं.

Paracetamol in Hindi

पेरासिटामोल कई बार सर्दी जुकाम में प्रयोग होने वाली अन्य दवाओं में भी मिक्स करके दी जाती है. यह कभी पोस्ट-सर्जरी या कैंसर के कारण होने वाले तेज दर्द को कम करने के लिए भी दी जा सकती है. पेरासिटामोल सामान्यत: मुहँ से टेबलेट के रूप में या बच्चों के द्वारा सिरप के रूप में ली जाती है. कभी ये rectal (गुदा-द्वार) या नसों के जरिये भी दी जा सकती है. पेरासिटामोल का असर 2 से लेकर 4 घंटे तक रहता है.

  • How Paracetamol Works – पेरासिटामोल कैसे काम करती है
  • Paracetamol Uses – पेरासिटामोल का उपयोग
  • Paracetamol side effects – पेरासिटामोल से जुड़े संभावित नुक्सान
  • Precautions about पेरासिटामोल से जुडी चेतावनी
  • Paracetamol alternatives- पेरासिटामोल के अलग रूप
  • जैसे की ऊपर बताया गया है, पेरासिटामोल एक प्रकार की NSAID मेडीसिन है. NSAID समूह की दवाएँ एक साईंक्लोओक्सीजनेस (Cyclooxygenase) नाम के एंजाइम को रोकने का काम करती हैं. यह एंजाइम तीन प्रकार का होता है हमारे शरीर में दर्द पैदा करने वाले पदार्थ बनाता है. पेरासिटामोल इसमें से टाइप ३ वाले साईंक्लोओक्सीजनेस एंजाइम को नियंत्रित करके बुखार को कम करने में सहायता करती है. इसके अलावा पेरासिटामोल कुछ और ऐसे केमिकल्स को रोकती है जो सूजन और दर्द पैदा करते हैं.

    पेरासिटामोल टेबलेट (Paracetamol tablet) को इन तरह के रोगों में होने वाले दर्द या बुखार में लिया जाता है.

    • सर दर्द
    • जोड़ों का दर्द
    • कमर का दर्द
    • कान का दर्द
    • औसटीओआर्थराइटिस
    • दांत का दर्द
    • माँसपेशियों का दर्द
    • मासिक धर्म का दर्द
    • माइग्रेन और बुखार
    • सर्दी जुकाम में होने वाला बुखार
    • वायरल बुखार
    • किसी भी अन्य रोग में होने वाला बुखार

    अमेज़न (Amazon) जैसे ऑनलाइन स्टोर पर कुछ उपचारात्मक विकल्प उपलब्ध हैं।

    पेरासिटामोल का अत्यधिक प्रयोग या अगर पेरासिटामोल सूट न करे, तो इस तरह के नकारात्मक प्रभाव हो सकते हैं.

    • त्वचा की लाली
    • एलर्जिक परेशानी
    • सांस लेने में तकलीफ
    • नाक बहना
    • उलटी का अहसास होना
    • लीवर को नुक्सान
    • असामान्य ब्लड काउंट
    • त्वचा के ऊपर फोड़े होना
    • मुँह सूजना

    ऊपर लिखे गए साइड-इफेक्ट्स के अलावा कुछ और भी साइड-इफेक्ट्स हैं परन्तु ये काफी कम लोगों में ही देखे गए हैं जैसे-

    • काले या खूनी रंग का मल
    • खूनी या बादली रंग की पेशाब
    • होंठों पर या मुँह में छाले और सफेद निशान
    • त्वचा पर लाल धब्बे, दाद-खुजली और दाने पड़ना
    • गले में खराश
    • असामान्य कमजोरी या थकान
    • बिना किसी और रोग के भी बुखार आना

    वैसे तो कोई भी दवा लेने से पहले यह अच्छा है की डॉक्टर से सलाह ली जाए परन्तु कई बार शुरुवाती बीमारी में लोग खुद से भी पेरासिटामोल का उपयोग करने लगते हैं. लेकिन यह जरुरी है की इसके प्रयोग में सावधानी बरती जाए, जैसे की पेरासिटामोल की एक दिन में अधिकतम मात्रा ४००० मिली ग्राम से ज्यादा नहीं हो. अगर मरीज शराब पीने का आदि हो तो पेरासिटामोल के उपयोग से पहले डॉक्टर से अवश्य पूछ लेना चाहिए और एक दिन में अधिकतम मात्रा २००० मिली ग्राम ही लेना चाहिए.

    एक समय में इसकी अधिकतम खुराक  १००० mg से ज्यादा न हो, और एक खुराक लेने के बाद दूसरी में करीब ४-६ घंटे का अंतराल  हो. सामान्य प्रयोग में वयस्कों के लिए पेरासिटामोल ५०० mg की टेबलेट हर ४-६ घंटे में लेना पर्याप्त है.

    बच्चों में पेरासिटामोल शरीर की वजन के हिसाब से दी जाती है, जिसका विवरण दवा की बोतल में ही अक्सर लिखा होता है, परन्तु अच्छा यही है की ज्यादा बार पेरासिटामोल देने की नौबत आये तो पहले डॉक्टर से मिल लें.

    अगर आपको पेरासिटामोल का उपयोग दो या ज्यादा से ज्यादा तीन दिन तक करना पड़े, और बुखार फिर भी नहीं गया हो तो एक बार डॉक्टर को दिखा लेने में ही भलाई है. लम्बे समय तक बिना डॉक्टर के परामर्श पेरासिटामोल का उपयोग सही नहीं है, और ऐसा करने से कुछ और गंभीर समस्या भी हो सकती है.

    पेरासिटामोल दवा का प्रयोग मेडिकल रिसर्च में गर्भ और स्तनपान के वक़्त सुरक्षित पाया गया है. परन्तु गर्भवती महिलाएं पेरासिटामोल लेने से पहले डॉक्टर से अवश्य पूछ लें. इसी तरह स्तनपान करने वाली माँ भी डॉक्टर से परामर्श करके ही पेरासिटामोल या इस तरह की कोई दवा लें.

    Tynor Hot and Cold Pack

    Paracetamol – पेरासिटामोल कई अन्य नाम से बाज़ार में उपलब्ध है, जैसे

    • PCM पीसीएम 500 एमजी टैब्लेट
    • Lupicin ल्यूपिसिन 500 एमजी टैब्लेट
    • Macfast मैकफास्ट 500 एमजी टैब्लेट
    • Acticin एक्टिसिन 500 एमजी टैब्लेट
    • Ultragin अल्ट्राजीन 500 एमजी टैब्लेट

    किसी कारणवश यदि आपके आसपास कोई अनुभवी डॉक्टर न उपलब्ध हो तो आप हमें यहाँ पर संपर्क कर सकते हैं.

    Paracetamol in Hindi, Paracetamol uses in Hindi

    Reviews

    पेरासिटामोल (Paracetamol) - उपयोग, साइड-इफेक्ट्स और अन्य जानकारी
    4.7 rating based on 12,345 ratings
    Overall rating: 4.7 out of 5 based on 4 reviews.
    Name
    Email
    Review Title
    Rating
    Review Content

     

     

     

     

     

    7 thoughts on “पेरासिटामोल (Paracetamol) – उपयोग, साइड-इफेक्ट्स और अन्य जानकारी

      • खांसी कई कारणों से हो सकती है। सही चिकित्सा सलाह पाने के लिए कृपया डॉक्टर को मिलना चाहिए। एक ओटीसी (over the counter) राहत दवा के रूप में, यदि आपके पास कफ के साथ गीली खांसी (Wet cough) है तो वयस्कों के लिए Benylin syrup 10 ml, 6 घंटे के अंतराल पर सेवन करें| यदि आपके पास (Dry cough) सूखी खांसी है तो आपको वयस्कों के लिए एक दिन में 10 मिलीलीटर की चार खुराक Benadryl Syrup खांसी सिरप लेना चाहिए।

        Coughing can be due to many reasons. Please see a doctor for proper diagnosis. As an OTC (over the counter) relief medicine, if you have a wet cough with phlegm then consume Benylin cough syrup 10 ml each at a gap of 6 hours and maximum of 40 ml in one day for adults. If you have a dry cough then you must take Benadryl cough syrup up to four doses of 10 ml each in one day for adults.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *