Oats – ओट्स का उपयोग और अन्य जानकारी

आज के हमारे भाग-दौड़ के जीवनशैली के साथ साथ खान-पान के आदत में भी बदलाव आ रहे हैं| इसलिए हम हमेशा जल्दी बननेवाले खाना ही बनाना चाहते हैं, पर उसके साथ हम हमेशा पौष्टिक आहार भी लेना चाहते हैं| Oats (ओट्स) ऐसे ही एक पौष्टिक आहार है जो हमारे पेट भी भरता है और सेहत का भी ध्यान रखता है|

आइये जानते हैं ओट्स और ओटमील के बारे में – Oats and oatmeal

oats in hindiओट्स प्रोटीन, फाइबर और बीटा ग्लूकॉन से भरपूर है जो हमारे कोलेस्ट्रॉल और कई चीजों को नियंत्रित करता है| ओट्स को हम एक सम्पूर्ण आहार बोल सकते है जो सिर्फ स्वास्थ्य के लिए ही नहीं खाने में भी स्वादिस्ट है|

ओट्स जिसे हम हिंदी में जई (Oats in Hindi) के नाम से भी जानते हैं| वैसे आजकल ओट्स और ओटमील नाम ही ज्यादा प्रचलित है, पर कुछ जगह पर इसे जई का दलिया भी कहा जाता है| ओट्स असल में एक बीज अनाज है| ओटमील इस बीज का ही दलिया है जिससे तरह तरह के स्वादिष्ट डिश बनाई जाती हैं|

लोग अपने पसंद के अनुसार ओट्स से देशी या विदेशी डिश बनाते हैं जो की स्वाद के साथ साथ सेहत के लिए भी काफी लाभदायक होती है| आजकल बाजार में विभिन्न प्रकार के ओट्स उपलब्ध है जैसे कि पैकेट ओट्स, जल्दी बननेवाले ओट्स, ओट्स का आटा इत्यादि|

हम सभी जानते हैं की सुबह का नाश्ता हमारे लिए अहम् होता है क्यों की रात से लेकर सुबह के बीच हम किसी भी प्रकार के खाना अपने शरीर को नहीं देते, इसलिए सुबह हम कुछ सेहतमंद और साथ ही स्वादिष्ट खाना चाहते हैं| पर ज्यादातर आजकल हमारे पास समय के कमी के कारण हम अच्छे से नाश्ता नहीं कर पाते|

पर इस समस्या का सबसे अच्छा समाधान यही है की आप नाशते में ओट्स खाना शुरू करे| ओट्स से आपका नाश्ता भी जल्दी बनेगा और इसमें रहनेवाले फ़ूड मेडिसिन आपके सेहत और मूड को तंदरुस्त रखेगा|

अगर आप नाशते में रोज जई का दलिया लेंगे तो उससे आपके त्वचा में निखार आएगी, साथ ही आंत्र और मस्तिष्क संबंधी समस्याए भी कम होगी| गर्भावस्था में ओट्स खाने से माँ और बच्चे दोनों के ही सेहत बनी रहती है|

आधा कप ओटमील में 13 ग्राम प्रोटीन होता है जो की हमारे सेहत के लिए बहुत ही अच्छा होता है| साथ ही ओटमील एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर है जो इसके भीतर रहनेवाले टोकोट्रीएनिल्स, विटामिन ई और लोहे  से हमें मिलती है| पर सिर्फ इतना ही नहीं ओट्स में विटामिन बी 1, बायोटिन, तांबे, फास्फोरस और मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्व भी शामिल है जिससे ओट्स एक सम्पूर्ण आहार बनता है|

ओट्स आपके कुल कैलरी को 81% तक कम कर सकता है| ओट्स में रहनेवाली पोषक तत्वों  के कारण आपके खाने में कैलरी की मात्रा नियंत्रण में रहती है| हम अक्सर महसूस करते हैं की कम कैलरीवाले खाना अगर हम दिन में खाते हैं तो हमे भूख भी जल्दी लगती है| पर ओटमील लेने से पेट भरा रहता है और हमे जल्दी भूख भी नहीं लगती|

और इस कारण हम अगर थोड़ा थोड़ा खाना दिनभर खाते हैं तो उससे ना तो हमारी वजन बड़ती है और ना खाना हजम करने में कोई समस्या होती है| इसलिए आज के जीवनशैली में शरीर को मेद रहित और फिट रखने का सबसे अच्छा नास्ता ओट्स दलिया ही है|

अलग अलग प्रकार के ओट्स के बारे में जान ले – Types of oats:

Oat groats:  यह ओट्स ब्रेकफास्ट यानि सुबह के नास्ते के लिए सबसे अच्छा रहता है, साथ ही यह स्टफिंग के लिए भी अच्छा होता है|

Steel-cut oats:  इस को स्टील ब्लेड की सहायतासे टुकरे टुकरे किये जाते हैं, यह चक्की बनावटी विशेषतावाले भी होते हैं|

Old fashioned oats:  यह ओट्स पहले उबाले जाते हैं फिर उसे पैक किया जाता है|

Quick-cooking oats: यह ओल्ड फैशन ओट्स की तरह ही होता है बस इसे पैकिंग करने से पहले पतले पतले टुकरो में काटा जाता है|

Instant oatmeal: यह ओट्स खास कर जल्दी बन जाने की विषय को ध्यान में रखकर ही पैकिंग किया जाता है, इसलिए यह आधा पका हुआ ही पैक किया जाता है|

Oat bran: यह ओट्स की बाहरी परत होता है जो जई (Oats In Hindi) दलिया के तरह ही प्रोटीन से समृद्ध होता है|

ऊपर दिए गए सारे प्रकार के ओट्स आपके हेल्थी मील के लिए एकदम परफेक्ट है| यह स्वाद के साथ साथ आपके शरीर के पोषण मात्रा को भी बनाए रखता है| पर अगर आप अपने ब्रेकफास्ट के लिए सबसे सही ओट्स कौनसी है यह जानना चाहते है तो आप स्टील कट ओट्स ले सकते हैं| सुबह के पहली नास्ते के लिए यह ओट्स सबसे बेहतर और पौष्टिक माना जाता है|

ओट्स और ओटमील से स्वास्थ्य पर होनेवाले कुछ फायदे – Health benefits of oats and oatmeal in Hindi:

  1. एक पौष्टिक आहार

ओट्स अपने आप में ही एक सम्पूर्ण आहार है| इसमें बहुत मात्रा में कार्बोहाइड्रेड और फाइबर है, साथ ही प्रोटीन भी काफी मात्रा में होने के कारण इससे शरीर को हर तरह की जरुरी पोषण मिल जाती है| खास कर शाकाहारी लोगों के लिए यह प्रोटीन का अच्छा स्रोत भी है| इसे एक पौष्टिक आहार इसलिए भी कहना सही होगा की इसमें मौजूद विटामिन और मिनरल शरीर को कई सारे बीमारी से बचाती है|

  1. एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर

ओट्स में कई सारे जरुरी एंटीऑक्सिडेंट होते हैं, जिनमें एवनेंथ्रामिड्स भी शामिल हैं। उच्च रक्तचाप को कम करने में मदत के साथ ही यह शरीर के रोग प्रतिरोध क्षमता को भी बड़ाता है|

  1. बीटा- ग्लूकॉन

ओट्स में बीटा- ग्लूकॉन की मात्रा भी काफी होती है जो रक्त के साथ जल्दी घुल जाता है| बीटा- ग्लूकॉन शरीर में कोलेस्ट्रॉल और मधुमेह को नियंत्रित करने  के साथ ही हानिकारक बैक्टीरियाओ से सुरक्षा प्रदान करता है|

  1. रक्त में कोलेस्ट्रॉल को करता है नियंत्रित

ओट्स एल डी एल कोलेस्ट्रॉल (LDL cholesterol) को नियंत्रित करता है जिससे हार्ट सम्बन्धी समस्साए कम हो जाती है और ह्रदय रोग की आशंका भी कम रहती है|

  1. रक्त में शर्करा नियंत्रण

ओट्स वजन को कम करता है और साथ ही रक्त में शर्करा को नियंत्रित भी करता है| साथ साथ ओट्स में रहनेवाले फाइबर इन्सुलिन की मात्रा को सही रखने में काफी मदत करता है| इसलिए ज्यादा वजनवाले व्यक्ति जो डाईबेटिस से भी ग्रस्थ है उनके लिए ओट्स खाना काफी लाभदायक होता है|

  1. वजन घटाने में मदतगार

ओट्स में फाइबर की मात्रा काफी अच्छे होने से यह पूरा दिन पेट भरा हुआ रखता है जिससे ज्यादा भारी-भरकम खाना खाने की जरुरत नहीं होती| इसलिए अपने पोषण को कम ना करके ही जो लोग वजन कम करना चाहते हैं उनके लिए ओट्स सबसे अच्छा नाश्ता माना जाता है|

  1. त्वचा की सुरक्षा

जई का  दलिया अगर आप रोज नास्ते में लेते हैं तो उससे आपके चहेरे पर निखार तो आएगी साथ ही आप को यह जानकर भी अच्छा लगेगा की बहुत से स्किन केयर प्रोडक्ट में ओट्स प्राकृतिक हर्ब के रूप में इस्तेमाल किया जाता है|यह एक्जिमा सहित कई सारे समस्याओ से त्वचा को सुरक्षा प्रदान करती है|

  1. बच्चो के अस्थमा समस्या को कम करता है

एक शोध में मिलनेवाले जानकारी में यह बताया गया है की अगर बच्चों को छह महीने से पहले ओट्स खिलाना शुरू किया जाये तो उससे बच्चों में बचपन सम्बन्धी अस्थमा की आशंका काफी कम हो जाती है|

  1. कॉन्स्टिपेशन के लिए सबसे अच्छा उपाय

आजकल हम सबसे ज्यादा परेशान रहते हैं कब्ज या कॉन्स्टिपेशन को लेकर| आजकल के जीवनशैली के कारण और फ़ास्ट फ़ूड आदत के चलते हम अक्सर इस समस्या का सामना करते ही है| पर अगर आप रोज एक सही मात्रा में ओटमील लेते हैं तो यह आपके कॉन्स्टिपेशन में मदत करके आपको सुकून देता है|

  1. पूरी तरह विटामिन और मिनरल से भरपूर है ओट्स

ओट्स में बहुत मात्रा में विटामिन और मिनरल के साथ साथ मैंगनीज होने के कारण यह हमारे हड्डियों के लिए काफी अच्छा है| अक्सर हमारे हड्डियों में पोषण के अभाव से एक उम्र के बाद कमजोरी आ जाती है, इसलिए अगर हम रोज के फ़ूड रूटीन में ओट्स को रखे तो उससे हड्डियों को जरुरी पोषण मिलता है जो हड्डियों के क्षयरोग को कम करता है|

आइये अलग अलग प्रादेशिक भाषाओं में ओट्स के नाम जान लेते हैं

Oats in Hindi – जई
Oats in Telugu – ओट्स
Oats in Urdu – जई
Oats in Tamil – ओट्स
Oats in Bengali – ओट्स
Oats in Gujarati – ओट्स

किसी कारणवश यदि आपके आसपास कोई अनुभवी डॉक्टर न उपलब्ध हो तो आप हमें यहाँ पर संपर्क कर सकते हैं.

Oats In Hindi, Oats Uses In Hindi, Oats Health benefits In Hindi, Oatmeal In Hindi, Oats Hindi

Reviews

Oats - ओट्स का उपयोग और अन्य जानकारी
0.0 rating based on 12,345 ratings
Overall rating: 0 out of 5 based on 0 reviews.

 

 

 

 

 

2 thoughts on “Oats – ओट्स का उपयोग और अन्य जानकारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *