Neem in Hindi – आइए इसके स्वास्थ्य लाभों का पता लगाएं

नीम को एक बहुत ही चमत्कारी पेड़ माना जाता है| कहा जाता है कि जहाँ नीम का पेड़ होता है वहा किसी भी प्रकार की कोई बीमारी नहीं होती है| स्‍वाद में कड़वा नीम अपने औषधीय गुणों के कारण बहुत ही मीठा माना जाता है। नीम हमारे शरीर के लिए तो फायदेमंद है ही यह रोगों के निदान में प्रयोग भी किया जाता है साथ ही सौंदर्य प्रसाधनों का भी यह महत्‍वपूर्ण हिस्‍सा है।

नीम के पेड़ के हर हिस्‍से जैसे पत्ते, छाल, फल, तेल आदि हमारे जीवन को रोगमुक्‍त रखने के लिए सहायक होते हैं। नीम में इतने गुण है कि यह कई तरह के रोगों के इलाज में काम आता है| नीम में डायबिटिज, बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने के गुण पाए जाते हैं| नीम के तने, जड़, छाल और कच्चे फलों में शक्ति-वर्धक और रोगों से लड़ने का गुण भी पाये जाते हैं नीम के तेल बहुत ही फायदेमंद भी होते हैं|  इसकी छाल खासतौर पर मलेरिया और त्वचा संबंधी रोगों में बहुत ही उपयोगी होती है|  इसके पत्तों में मौजूद बैक्टीरिया से लड़ने वाले गुण मुंहासे, छाले, खुजली, एक्जिमा, एलर्जी इत्यादि को दूर करने में मदद करते हैं|

नीम के कई सारे गुण है जो हम नीचे बिस्तार से बताएंगे – Benefits of Neem

पेट संबंधी समस्‍याओं में नीम – Benefits of Neem in Stomach Related Problems

पेट संबंधी अनेक समस्याओं से निजात पाने में नीम बहुत बेहतर और सहायक होता है| पेट में होनेवाले कीड़ों को नष्ट करने के लिए नीम के पत्तों के रस में शहद और काली मिर्च मिलाकर सेवन करना बहुत ही फायदे दायक होता है| नीम के फूलों को मसलकर गर्म पानी में डालकर छानकर पी लेने से कब्ज सम्बन्धी समस्या दूर होती है| नीम की पत्तियों को सुखाकर शक्कर मिलाकर खाने से दस्त में भी आराम महसूस होती है|

त्वचा की खूबसूरती और बालों के लिए नीम – Benefits of Neem for Skin and Hair

नीम की पत्तियों का रस पीने से खून साफ होता है जिससे चेहरे की सुंदरता बढ़ती है| नीम के तेल से पूरे शरीर की मालिश करने से भी शरीर में होनेवाले कई तरह के बक्टेरिया सम्बन्धी रोग कम हो जाती है| साथ ही त्वचा रोगरहित होती है| स्‍नान करते समय नीम की ताजी पत्तियों को पानी में डालकर इस पानी से स्‍नान करें| साथ ही नीम एक बेहतरीन हेयर कंडीशनर भी है, नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर और पीस कर पेस्ट बनाकर लगाने से बाल झड़ने सम्बन्धी समस्या कम हो जाती है| नीम पत्तो की पेस्ट में शहद मिलाकर इसे बालों में लगाने से रूसी की समस्‍या खत्‍म होती है और बाल मुलायम और चमकीले भी हो जाते हैं।

मधुमेह और कोलेस्‍टॉल नियंत्रण में मददगार है नीम – Neem Help in Diabetes and Cholesterol Control

नीम डायबिटीज की रामबाण दवा में से एक है। व्यायाम की कमी तथा आहार में प्रोटीन की कमी से ज्यादातर डायबिटीज होता है|  सुबह के समय नीम का जूस लेने से मधुमेह नियंत्रण में रहती है|  साथ ही नीम के तने की छाल तथा मेथी के चूर्ण का काढ़ा बनाकर कुछ दिनों तक नियमित पीने से डा‍यबिटीज में लाभ मिलता है|  इसके अलावा नीम के पत्तों का जूस एलोवेरा जूस के साथ मिलाकर रोजाना खाली पेट लेने से शुगर को कंट्रोल किया जा सकता है| इसके अलावा नीम एक रक्त-शोधक औषधि है, यह कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है| नीम का जूस महीने में कम से कम 10 दिन तक सेवन करते रहने से हार्ट अटैक का खतरा कम हो जाता है|

कान और दांतों के रोग के लिए नीम – Neem for Ear and Tooth Disease

कान में नीम का तेल डालने से कान दर्द या बहने की समस्‍या ठीक हो जाती है| नीम का तेल तेज गर्म करके जला लें इसे थोड़ा ठंडा करके कान में कुछ दिन तक नियमित रूप से डालने से बहरापन में भी आराम मिलने की बात कही जाती है पर यह करने से पहले डॉक्टर से बात कर लेना भी सही होता है नहीं तो किसी किसी के लिए यह उल्टा भी हो सकता है|  इसके अलावा नीम दांतों के लिए भी लाभकारी होता है। नीम का दातुन नियमित रूप से करने से दांतों में होने वाले कीटाणु नष्‍ट हो जाते हैं| इससे मसूडे मजबूत व दांत चमकीले और निरोग होते हैं| मसूड़ों से खून आने और पायरिया जैसी समस्या होने पर नीम के छाल और पत्तों को मिलाकर गरम पानी से कुल्‍ला करने से लाभ होता है|

पीलिया में नीम है फायदेमंद – Benefits of Neem in Jaundice

पीलिया में नीम का इस्‍तेमाल फायदेमंद होता है और यह बहुत ही पुरातन समय से इस्तेमाल किये जा रहे हैं| पित्ताशय से आंत में पहुंचने वाले पित्त में रुकावट आने से पीलिया होता है| ऐसे में रोगी को नीम के पत्तों के रस में सोंठ का चूर्ण मिलाकर देने से काफी अच्छी सुधार होती है| या फिर सिर्फ दो भाग नीम की पत्तियों का रस या छाल का क्‍वाथ और एक भाग शहद मिलाकर पीने से पीलिया रोग में काफी अच्छी सुधार होती है|

किटाणुनाशक है नीम पत्तिया – Neem Leaves are Disinfectant

नीम की पत्तियों में किटाणुनाशक गुण होते हैं जिन्हें घर के दरवाजे पर लगाने से मच्छर या किटाणु घर से दूर रहते हैं| अगर घर के आसपास मच्छर अधिक हों तो नीम की पत्तियों को जलाने से लाभ भी होता है, नीम के पत्तिओं को धूप की तरह जलाने से भी बातावरण जीवाणु मुक्त होता है और एक अच्छी सुगंध भी बनी रहती है|

नीम के तेल का प्रयोग – Benefits of Neem oil

नीम का तेल नीम फल के बीज से निकाला जाता है| नीम का तेल डैंड्रफ, एक्जिमा, दाद, दोमुंहे बालों को सीधा करने, मुंहासे, फंगल इंफेक्शन, झुर्रियों को दूर करने में बहुत ही सहायक होता है| और यही नहीं नीम का फल और इसकी जड़ का भी प्रयोग आप कई समस्याओं में घरेलू उपायों के तौर पर कर सकते हैं|

एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर है नीम – Neem is Rich with Antioxidants

आपको जानकर हैरानी होगी कि नीम की पत्तियों को चबाने से आपका पाचन और इम्यूनिटी क्षमता भी बहुत ज्यादा मजबूत होती है| नीम के पत्तों में लियोम्नोइड्स नामक तत्व होता है जो कैंसर के खतरे को  कम करने में सक्षम है और साथ ही दूसरे कई तरह के संक्रामक रोगों को कम करता है|

ध्यान रखें – Keep it Mind

याद रखें कि नीम का सेवन गर्भवती महिलाओं को नहीं करना चाहिए क्योंकि यह काफी कड़वा होता है और यह अत्यधिक उलटी का कारण बन सकता है|

अगर आप किसी भी प्रकार के दवा खाली पेट लेते हैं तो नीम रस खालीपेट लेने से पहले अपने डॉक्टर से बात जरूर कर लें|

Neem benefits, Neem benefits in Hindi, Neem uses, Neem uses in Hindi, Health benefits of neem in Hindi

Leave a Review

How did you find the information presented in this article? Would you like us to add any other information? Help us improve by providing your rating and review comments. Thank you in advance!

Name
Email (Will be kept private)
Rating
Comments
Neem in Hindi - आइए इसके स्वास्थ्य लाभों का पता लगाएं Overall rating: ☆☆☆☆☆ 0 based on 0 reviews
5 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *