Mustard-in-Hindi

Mustard in Hindi

भारत में अगर हम खाने में इस्तेमाल होनेवालें तेलों की बात करे तो उसमें सबसे पहले सरसों के तेल (Mustard Oil) का ही नाम आएगा| क्यों कि उत्तर से लेकर पूर्व तक इस तेल की काफी ज्यादा इस्तेमाल होती है| राजस्थानी खाना उत्तरप्रदेश के पूर्वांचलीय खाना और बंगाली खाने में सरसों के तेल और पिसा हुआ सरसों का भी इस्तेमाल किया जाता है|

वैसे तो दक्षिण के खेत्र में सरसों के तेल कम उपयोग होती है पर वह भी अगर आप देखे तो तड़का लगाने में सरसों का ही इस्तेमाल होता है| वैसे भारत में सबसे अच्छा सरसों राजस्थान में ही कृषि की जाती है पर थोड़ी बहुत खेती भारत में बहुत से प्रदेशों में ही होता है| कहाँ जाता है राजस्थान का सरसों के तेल ही सबसे उत्कृष्ट है और साथ साथ यह पौष्टिकता से भी भरपूर है| आइये जानते हैं इसके बारे में कुछ बातें

Read about Argan Oil in Hindi

रोग प्रतिरोध क्षमता को बढ़ाता है सरसों – Mustard Benefits For Immunity

सरसों गर्म प्रवृति के होने के कारण इसके तेल या आम इस्‍तेमाल सर्दियों में बहुत ही लाभदायक होता है| यह शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता हैं और साथ में सरसों शरीर को गर्माहट देती है जिस कारण सर्दी के समय ठण्ड लगने की समस्या कम हो जाती है|

शारीरिक कार्य क्षमता बढ़ाता है सरसों – Mustard Benefits For Body Strength

सरसों के तेल में रहनेवाले कई सारे पोषक तत्वों टॉनिक के रूप में भी प्रयोग किया जाता है| सरसों के  इस्‍तेमाल करने से शरीर की कमजोरी बहुत हद तक दूर हो जाती है और शारीरिक कार्यक्षमता में बढ़ोतरी होती है| अगर आपके शरीर में भी कमजोरी बनी रहती हैं तो रोज का खाना आप सरसों के तेल में भी पकाय जो आपके सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद साबित होगा|

भूख बढ़ाने में मदत करता है सरसों –  Mustard Benefits For Hungry

हमारे कमजोरी का एक कारण है भूख कम लगना|  इसलिए आपके शरीर के कमजोरी को सही करने और भूख को बढ़ाने के लिए सरसों के तेल का इस्‍तेमाल करना बहुत ही अच्छा होता है| क्‍यों कि यह तेल हमारे भूख को बढ़ाता है और शरीर में पाचन क्षमता को सही बनाय रखता है| अगर आपको भी भूख कम लगने की समस्या है तो जरूर अपने खाने को सरसों के तेल में ही बनाना शुरु करें|

बालों के लिए बहुत ही जरुरी पोषक तेल है सरसों का तेल – Mustard Benefits For Hair

सरसों के तेल में ओलिक और लिनोलिक एसिड नामक फैटी एसिड मौजूद है जो हमारे बालों को बजबूत बनाने के साथ साथ पोषण भी देता है| खास कर सरसों के तेल लगाने से बालों की जड़ो को पोषण मिलता है| अगर हफ्ते में दो दिन इस तेल का इस्‍तेमाल बालों के लिए करते हैं तो बालों का झड़ना बहुत कम हो जाता है|

सरसों सर्दी और जुखाम में करता है मदत – Mustard Benefits For Cold

सरसों के दानों में बहुत ही गुणकारी पोषक तत्वों मौजूद होते हैं जो पीसकर शहद के साथ लेने से कफ और खांसी दूर हो जाती है| इसके अलावा यह सर्दी, जुखाम, सिरदर्द और शरीर के दूसरे प्रकार के दर्द में भी बहुत ही लाभ देता है| अगर सर्दी के समय खास कर सरसों के तेल का उपयोग किया जाये तो यह बहुत ही लाभदायक होता है|

गठिया दर्द के लिए लाभदायक है सरसों का तेल – Mustard Oil Benefits For Arthritis

सरसों के तेल के मालिश से गठिया और जोड़ो का दर्द ठीक हो जाता है| अगर गठिया के रोगी सरसों के तेल में कपूर मिलाकर मालिश करें तो यह बहुत ही फायदा देता है दर्द को कम करने के लिए| साथ ही कई दूसरे प्रकार के दर्द में भी सरसों के तेल बहुत ही लाभदायक होता है|

मसूड़ों को मजबूत करता है सरसों का तेल – Mustard Oil Benefits For Gums

वैसे सरसों के तेल के कई फायदे हैं पर हम यह नहीं जानते हैं कि हमारे दांतों के सेहत के लिए भी यह एक अहम भूमिका निभाती है और साथ ही यह मसूड़ों को मजबूत करने में भी बहुत ही मदत करता है| अगर रोज थोड़ा सेंधा नमक के साथ सरसों के तेल का उपयोग किया जाएँ तो यह बहुत ही अच्छा होता है हमारे दांतों और मसूड़ों को मजबूत रखने में|

त्वचा को निखारता है सरसों का तेल – Mustard Oil Benefits For Skin

अगर प्राकृतिक तेल की बात करें तो सरसों का तेल प्राकृतिक तेल में सबसे आगे हैं| यह बहुत ही आसानी से मिल भी जाता है और साथ में यह बहुत ही अच्छा पोषण भी होता है हमारे स्किन के लिए| अगर पुरे सर्दी के समय आप यह तेल अपने त्वचा या चेहरे पर लगाते हैं तो यह बहुत ही लाभदायक होता हैं आपके त्वचा के सौंदर्य और निखार लाने में|

सरसों के  इस्तेमाल किस प्रकार करें – Use Of Mustard

  • सरसों को पिस कर उसे इस्तेमाल किया जा सकता है|
  • सरसों के तेल का इस्तेमाल सबसे सही और उपयोगी होता है|
  • सरसों के खोल से भी आप बाल धो सकते हैं|
  • तड़के में इस्तेमाल कर सकते हैं सरसों का तेल और सरों दाना|
  • पिली सरसों का पाउडर भी औषधि की तरह इस्तेमाल किया जाता है|

सरसों के प्रकार – Type Of Mustard

  • पिली सरसों
  • काली सरसों
  • सफ़ेद राई
  • काली राई

सरसों और सरसों तेल में रहनेवाले पोषक तत्वों – Mustard Nutrition Facts

  • Energy (ऊर्जा): 508 Kcal (किलोकेलोरी)
  • Carbohydrates (कार्बोहाईड्रेट्स): 09 G (ग्राम)
  • Fat (वसा): 24 G (ग्राम)
  • Protein (प्रोटीन): 08 G (ग्राम)
  • Vitamin A Equiv. (विटामिन A पोषक): 2 Μg (माइक्रोग्राम)
  • Thiamine थायमीन पोषक (Vitamin B1): 0.805 Mg (मिलीग्राम)
  • Riboflavin राइबोफ्लाविन पोषक (Vitamin B2): 0.261 Mg (मिलीग्राम)
  • Niacin नियासिन पोषक (Vitamin B3) : 4.733 Mg (मिलीग्राम)
  • Vitamin B6 (विटामिन बी6 पोषक): 397 Mg (मिलीग्राम)
  • Folate (फोलेट पोषक): 162 Μg (माइक्रोग्राम)
  • Vitamin B12 (विटामिन बी12 पोषक): 0 Mg (माइक्रोग्राम)
  • Vitamin C (विटामिन सी पोषक): 1 Mg (मिलीग्राम)
  • Vitamin E (विटामिन ई पोषक): 07 Mg (मिलीग्राम)
  • Vitamin K (विटामिन के पोषक): 4 Μg (माइक्रोग्राम)
  • Mineral Calcium (खनिज केलसीयम): 266 Mg (मिलीग्राम)
  • Mineral Iron (खनिज लोहा): 21 Mg (मिलीग्राम)
  • Mineral Magnesium (खनिज मेग्नीसियम): 370 Mg (मिलीग्राम)
  • Mineral Phosphorus (खनिज फोस्फोरस): 841 Mg (मिलीग्राम)
  • Mineral Potassium (खनिज पोटेसीयम) : 828 Mg (मिलीग्राम)
  • Mineral Sodium (खनिज सोडियम): 13 Mg (मिलीग्राम)
  • Mineral Zinc (खनिज ज़िंक): 08 Mg (मिलीग्राम)
  • Water (पानी): 27 G (ग्राम)

Reference – Livestrong

Reviews

Mustard in Hindi
0.0 rating based on 12,345 ratings
Overall rating: 0 out of 5 based on 0 reviews.

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *