Horse Gram in Hindi

Horse Gram in Hindi

वैसे तो हम दाल रोज अपने खाद्य सूचि में रखते ही है पर ज्यादातर उसमे मसूर, मुंग और अरहर के दाल होते हैं| कुलथी के दाल के बारे में हम कम ही जानते हैं या फिर अगर कहा जाये तो जानते ही नहीं है| पर यह दूसरे दालों के तरह प्रोटीन और पौष्टिकता से तो भरपूर है ही साथ में यह और भी कई गुणों के लिए जाना जाता है| अंग्रेजी में इस कुलथी दाल को Horse Gram कहा जाता है| कुलथी को विभिन्‍न नामों से जाना जाता है, दक्षिण भारत में इसे कोल्‍लू, संस्‍कृत भाषा में कुलथ कालई आदि नाम से जाना जाता है| भारतीय आयुर्वेद में कुलथी दाल का उपयोग बहुत से रोगों के इलाज के लिए किया जाता रहा है| भारत में कुलथी दाल का लंबा इतिहास रहा है| तो आइये जानते हैं इसके बारे में कुछ बातें-

पथरी के लिए लाभदायक है कुलथी दाल – Horse Gram For Kidney Stone

पारंपरिक रूप से कुलथी दाल का उपयोग किडनी समस्‍याओं के उपचार के लिए बहुत ही फ़ायदेदायक है|  कुलथी दाल किडनी पत्‍थरों को नष्‍ट करने में मदद करती है| कुलथी दाल में मूत्रवर्धक गुण होते हैं जो कि किडनी के पत्‍थरों को मूत्र के साथ बाहर निकालने में मदद करता है| अगर रोज कुलथी दाल खाया जाये तो पथरी के गठन को भी रोकता है यह| अगर आप कुलथी के बीज भिगोकर सुबह के समय लेते हैं तो बहुत ही अच्छा होता है|

महिलाओं के लिए भी बहुत फ़ायदेदायक होता है कुलथी दाल – Horse Gram For Women Health

ज्यादातर भारत के महिलाओं में आयरन की कमी को पाया गया है और इस समस्या से निजात पाने का एक बहुत ही सही माध्यम हो सकता है कुलथी दाल| अगर रोज के आम दाल के जगह महिलाएं हप्ते में तीन दिन भी इस दाल का उपयोग करते हैं तो महिलाओं में आयरन पूरी मात्रा में मिलती है यानि जितनी आयरन जरुरी है महिलाओं में उतनी मात्रा पूरी होती है|

गर्भवस्था में फायदेदायक होता है यह दाल – Horse Gram For Pregnancy

वैसे कहा जाता है शिशु का विकाश माँ के गर्भ में रहते ही हो जाता है इसलिए इस दौरान महिलाओं को अच्छी भोजन और सही पौष्टिक आहार लेने की बहुत ही ज्यादा जरुरत होती है| पर देखा गया है कि आर्थिक हालत के चलते कई घरों में बहुत ही ज्यादा पौष्टिक आहार नहीं ले पाते हैं महिलाएं जिसका असर शिशुओं को भुगतना पढ़ता है| अगर इसलिए रोज खाने में कुथली दाल रखा जाये तो यह बहुत ही अच्छा और सही होता है| पौष्टिकता और आयरन की कमी इस दाल को लेने से पूरी होती है और साथ साथ शिशु के विकास में भी मदत मिलता है|

मर्दों के वीर्य के घनत्व को बढ़ाता है कुथली दाल – Horse Gram For Sperm Count

आजकल के जीवन शैली के कारण कई तरह के समस्या मर्दों में बढ़ता जा रहा है उसमे से ही एक आम समस्या है स्पर्म काउंट कमी की समस्या| इस कारण कई लड़के आजकल बाप बनने से बंचित रह जाते हैं| पर इस समस्या से निजात पाने के लिए अगर समय से ही पौष्टिक आहार लिया जाये तो बहुत ही अच्छा होता है| कुथली दाल इस तरह के समस्या का समाधान करने में बहुत ही मदत करता है| अगर मर्द हर रोज यह दाल अपने खाने में रखते हैं तो इस तरह के कई समस्या का कई हद तक समाधान हो सकता है|

मधुमेह सम्बन्धी समस्या के लिए उपकारी है कुलथी – Horse Gram For Diabetes

वैसे तो कुलथी के दाल पौष्टिकता से भरपूर है पर अगर बात मधुमेह की आती है तो उसके लिए इसके कच्चे बीज भिगोकर खाना बहुत ही अच्छा होता है| अगर कई महीने तक इस प्रक्रिया को किया जाये तो मधुमेह सम्बन्धी समस्या से आसानी से निजात पाया जा सकता है| पर अगर आपको बहुत ज्यादा मधुमेह की समस्य है तो इसे लेने से पहले अपने डॉक्टर से एकबार सलाह जरूर कर लेना चाहिए|

कॉन्स्टिपेशन के लिए अच्छा होता है कुलथी दाल – Horse Gram For Constipation

अगर आपको कॉन्स्टिपेशन की कोई समस्या है तो आपको रोज कुलथी के दाल लेने से बहुत ही फायदा मिल सकता है| वैसे तो किसी भी प्रकार का दाल जो होता है वह कॉन्स्टिपेशन के लिए बहुत ही लाभदायक होता ही है पर कॉन्स्टिपेशन सम्बन्धी समस्या के लिए कुलथी दाल को सबसे अच्छा माना जाता है| अगर आपको कॉन्स्टिपेशन समस्या है तो जरूर आपको यह लेना ही चाहिए जो कि प्राकृतिक तरीके से आपके मल होने में सहायता करेगी|

कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदत करता है कुलथी दाल – Horse Gram is Good For Cholesterol

कई सारे शोध में पाया गया है कि कुलथी दाल का उपयोग करने से शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल को कम किया जा सकता है जो मोटापे का कारण बनता है| इसमें सही मात्रा में फाइबर रहती है जो आंत में कोलेस्‍ट्रॉल को कम करने में मदद करते हैं| साथ ही कोलेस्‍ट्रॉल को नियंत्रण करके दिल के समस्या को भी कम करता है कोलेस्ट्रॉल|

पाचन प्रक्रिया में मदत करता है कुलथी दाल – Horse Gram is Good For Digestion

अगर आपको पाचन सम्बन्धी समस्या है तो आप कुलथी दाल इस्तेमाल कर सकते हैं आपके रोज के खाने में| यह पेट के कई सारे समस्या को सही करके मल त्याग को आसान बनाता है| दाल के रूप में खाने के साथ साथ इसके बीज भिगोकर उसका पानी लेने से भी मदत मिलता है हाजमे में|

पेट के अल्सर को भी कम करता है कुलथी – Horse Gram is Good For Ulcer

आजकल बाहर का या फिर घर का भी कई प्रकार के खाने में अल्सर सम्बन्धी समस्या होने की आशंका होती ही है| अगर रोज सुबह सुबह कुलथी बीज भीगे हुए पानी लिया जाये तो यह किसी भी प्रकार के अल्सर को कम करने में बहुत ही मदत करता है| पर इसे लगातार तीन महीने तक करना जरुरी है तभी इसका सही फल मिलेगा|

कुलथी दाल में रहनेवाले पौष्टिक तत्वों – Nutrition Fact Of Horse Gram

  • ऊर्जा – 321 Ecals
  • नमी – 12 ग्राम
  • प्रोटीन – 22 ग्राम
  • फाइबर – 5 ग्राम
  • कैल्शियम – 287 मिली ग्राम
  • आयरन – 7 मिली ग्राम
  • कार्बोहाइड्रेट – 57 ग्राम
  • फॉस्‍फोरस – 311 मिली ग्राम
  • वसा – 0 ग्राम
  • खनिज – 3 ग्राम

Leave a Review

How did you find the information presented in this article? Would you like us to add any other information? Help us improve by providing your rating and review comments. Thank you in advance!

Name
Email (Will be kept private)
Rating
Comments
Horse Gram in Hindi Overall rating: ☆☆☆☆☆ 0 based on 0 reviews
5 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *