Hibiscus In Hindi

Hibiscus In Hindi

हिबिसकस (Hibiscus) यानि जिसे हिंदी में गुड़हल या जवाकुसुम भी कहा जाता है एक बहुत ही खूबसूरत फूलों वाला पौधा है| यह पौधा गर्म क्षेत्रों में पाया जाता है| आयुर्वेद के अनुसार गुड़हल कई बीमारियों के उपचार के लिए बहुत ही उपयोगी माना जाता है| कई सारे शोध में यह पाया गया कि गुड़हल के फूल से बनी चाय पीने से उच्च रक्तचाप की समस्या कम होता है| इसका इस्तेमाल खासकर खांसी, बाल झड़ना और बालों के सफेद होने जैसे समस्या से निजात पाने के लिए किया जाता रहा है कई वर्षों से|

Also read about Argan Oil in Hindi

सर्दी और खासी के लिए फायदेमंद है गुड़हल – Hibiscus Benefits For Cold

गुड़हल की पत्ती में प्रचुर मात्रा में विटामिन सी पाई जाती है जो चाय या अन्य तरह से काढ़ा बनाकर पिने से सर्दी और खांसी से जल्द राहत दिलाती है| आयुर्वेद की अनुसार अगर किसी को सर्दी की ज्यादा समस्या है तो उसे गुड़हल की पत्तीवाले चाय का सेवन हप्ते भर करने से बहुत ही लाभ मिलता है|

गुड़हल के इस्तेमाल करें स्किन केयर में – Hibiscus Benefits For Skin

गुड़हल का इस्तेमाल त्वचा के देखभाल करने के लिए भी किया जाता है| चीन में इसका इस्तेमाल परंपरागत तरीके से किया जाता है|  गुड़हल की पत्ती का इस्तेमाल एंटी-सोलर एजेंट के रूप में भी किया जाता है जो बहुत ही फ़ायदेदायक होता है| यह अल्ट्रावाइलेट रेडिएशन को सोख लेता है जो आपकी त्‍वचा में निखार बनाय रखता है|  इतना ही नहीं त्‍वचा की सूखापन को कम करने के लिए भी गुड़हल का इस्‍तेमाल बहुत ही फ़ायदेदायक माना जाता है|

उच्च रक्तचाप की समस्या को करता है कम – Hibiscus Benefits For Blood Pressure

गुड़हल उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करता है साथ ही यह शरीर में ब्लड प्रेशर को नार्मल बनाय रखता है नियमित सेवन से|  गुड़हल की पत्ती से बनी चाय पीने से खासकर उच्च रक्‍तचाप सम्बन्धी समस्या बहुत जल्दी ठीक हो जाती है| अगर आप अपने ब्लड प्रेशर कम करना चाहते हैं तो आपको चाये के साथ या फिर इसका काढ़ा बनाकर नियमित तरीके से सेवन करना चाहिए|

ख़राब कोलेस्टेरोल को कम करता है – Hibiscus Benefits For Bad Cholesterol

ख़राब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में भी गुड़हल एक तरह से बहुत ही अच्छी दवा है| गुड़हल की पत्‍तीवाले  चाय नियमित पीने से कोलेस्‍ट्रॉल मात्रा काफी कम हो जाती है| यह एक तरीके से शरीर में रहनेवाले ख़राब टॉक्सिन को भी निकालता है जो कि हमारे शरीर के लिए बहुत ही हानिकारक होता है|

महिलाओं के शरीर में हॉर्मोन को रखता है संतुलित – Hibiscus Benefits For Hormone Balance in Women

गुड़हल का नियमित सेवन महिलाओं के मासिक धर्म के लिए होता है काफी लाभदायक|  इससे महिलाओं के शरीर में हार्मोन संतुलित भी रहती है और किसी भी प्रकार हार्मोन सम्बन्धी समस्या भी नहीं होती है| अगर आप हप्ते में तीनबार भी गुड़हल का चाय या काढ़ा बनाकर सेवन करते हैं तो बहुत ही लाभदायक होता है| अच्छा होता है अगर आप उम्र 25  के बाद से ही यह काढ़ा लेना शुरू करें तो|

मोटापा कम करने में भी करता है मदत – Hibiscus Benefits For Obesity

गुड़हल के पत्तेवाले चाय अगर आप लेते हैं तो यह भूख को नियंत्रित करता है और साथ में यह शरीर में अतिरिक्त फैट को भी कम करता है| क्यों कि यह आपके पेट भरे हुए रखने में मदत करता है जिसके कारण बहुत सारा खाना खाने की जरुरत नहीं होती है और इस बजह से भी फैट झड़ जाता है| इसलिए अगर आपको जल्दी जल्दी फैट कम करना है और वह भी सही तरीके से तो यह एक बहुत ही अच्छी दवा हो सकती है आपके लिए|

पाचन को सुधार ने भी करता है मदत गुड़हल – Hibiscus Benefits For Digestion

अगर आपको पाचन सम्बन्धी समस्या है तो आपको रोज चाय के साथ थोड़ी गुड़हल पत्ती लेना चाहिए| यह खाना सही तरह से पचाने में और साथ ही हजम सम्बन्धी विषय को बढ़ाने में मदत करता है| बहुत से समय पाचन सम्बन्धी समस्या की कारण गैस जैसी समस्या भी हो सकती है पर अगर आप रोज इसका सेवन करते हैं तो यह आपके गैस सम्बन्धी समस्या को नियंत्रित करता है|

ग्लूकोज के संतुलन के लिए सही है गुड़हल – Hibiscus Benefits For Glucose Balance

प्राचीन समय में गुड़हल काढ़ा या चाय के तौर पर ही इस्तेमाल किया जाता था जो कि भारत की अतिरिक्त दूसरे देशों में भी होता रहा है| इसमें चीनी मिलानी नहीं चाहिए जिस कारण इससे शरीर में ग्लूकोज का संतुलित स्तर बनाए रखने में मदद मिलती है| बहुत से समय शरीर में ग्लूकोज की कमी की कारण भी कई सारे समस्या हो जाती है पर अगर गुड़हल रोज इस्तेमाल किया जाये तो यह समस्या कई हद तक कम हो सकता है|

आइये जानते हैं गुड़हल के फूल के कुछ फ़ायदे – Hibiscus Flower Benefits

  • गुड़हल का फूल सिर्फ देखने में ही सुंदर नहीं होता बल्कि यह सेहत और चेहरे तथा त्वचा के सुंदरता के लिए भी बहुत सही होता है| इसे जवाकुसुम भी कहते हैं जो भगवान गणेश की पूजा में खासकर इस्तेमाल किया जाता है|
  • यह फूल विटामिन सी, कैल्शियम, वसा, फाइबर, आवरन, नाइट्रोजन, फासफोरस जैसे कई सारे पोषक तत्वों से भरा होता है|
  • गुड़हल का फूल विटामिन सी का बहुत ही अच्छा और सही स्रोत है और इससे कफ, गले की खराश, जुकाम और सीने की जकड़न में फायदा मिलता है|
  • इस फूल के तेल बनाकर पेट में मालिश करने से प्रसव के दौरान काफी आराम मिलता है|
  • गुड़हल के फूल दिल की मजबूती के लिए भी बहुत ही उपयोगी मन जाता है|
  • गुड़हल फूल में मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट कॉलेस्ट्रॉल को नियंत्रण में रखने में बहुत ही मदत करता है|
  • इस फूल का पेस्ट शैम्पू के तरह भी इस्तेमाल किया जा सकता है, यानि इसका पेस्ट बनाकर इस लगया जा सकता है|
  • नारियल तेल के साथ यह फूल अच्छे से जलाकर तेल बनाकर इसे अपने बालों में लगाना भी बहुत ही फ़ायदेदायक होता है जो बालों के झड़ने जैसे समस्या को कम करता है|
  • वैसे गुलाब जल की तरह भी आप अपने स्किन को टोनिंग करने के लिए जवाकुसुम का पानी इस्तेमाल कर सकते हैं|

गुड़हल चाये या काढ़े में रहनेवाले पोषक तत्वों – Hibiscus Nutrition In Hindi

मात्रा प्रति 100 G

  • कैलोरी – (Kcal) 37
  • कुल वसा – 7 G
  • संतृप्त वसा – 3 G
  • बहुअसंतृप्त वसा – 0 G
  • मोनोअसंतृप्त वसा – 1 G
  • कोलेस्टेरॉल – 0 Mg
  • सोडियम – 3 Mg
  • पोटैशियम – 9 Mg
  • कुल कार्बोहायड्रेट – 7 G
  • आहारीय रेशा – 3 G
  • शर्करा – 6 G
  • प्रोटीन – 4 G
  • विटामिन – A -296 IU
  • विटामिन C – 18.4 Mg
  • कैल्सियम – 1 Mg
  • आयरन – 6 Mg
  • विटामिन D – 0 IU
  • विटामिन B6 – 0 Mg
  • विटामिन B12 – 0 Mg
  • मैग्नेशियम – 1 Mg

इस तरह करें इसका पेय के रूप में इस्तेमाल – Use Of Hibiscus

गु़ड़हल को भेषज चाय या काढ़े के तौर पर लिया जा सकता है| इसके फूलों को सुखाकर इसकी भेषज चाय बनाई जा सकती है| पानी उबलने पर सूखे फूल डाले और थोड़ी सी ही चीनी मिलाकर चाय तैयार करें| अगर कॉकटेल के तौर पर इसका उपयोग करना चाहते हैं तो इसे ठंडा होने दें और बर्फ के साथ पिए|

भारतीय भाषाओँ में गुड़हल के नाम – Hibiscus Common Name In India Language

  • हिंदी – जवा, ओड्रहुल, अढ़ौल, गुड़हल, जवाकुसुम, अड़हुल
  • बांग्ला – जबापुष्प
  • तमिल – सेम्बारुट्टी, सेवारट्टी
  • तेलेगु – दासनी, दासनमु
  • मराठी – जास्वन्द, जासवन्दी
  • ओड़िआ – मोनदरो, ओडोफूलो
  • कन्नड़ – दासणिगे, दसवला
  • गुजराती – जासुद, जासूवा
  • संस्कृत – जपापुष्पम, अरुण, प्रतिका, अर्कप्रिया, हरिवल्लभ, त्रिसन्ध्या

Reference – healthline

Reviews

Hibiscus In Hindi
0.0 rating based on 12,345 ratings
Overall rating: 0 out of 5 based on 0 reviews.
Name
Email
Review Title
Rating
Review Content

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *