Guggul Benefits

Guggul In Hindi

गुग्गुल (Guggul) वृक्ष से प्राप्त गोंद को ही गुग्गुलु कहते हैं, जो कि हम खास कर धूप करने के लिए इस्तेमाल करते हैं पर यह हमारे शरीर और मस्तिष्क के लिए भी बहुत ही फायदेमंद होता है|  आयुर्वेदीय में महिषाक्ष, महानील, कुमुद, पद्म और हिरण्य गुग्गुल का उल्लेख मिलता है| 

महिषाक्ष गुग्गुलु भूरे काले रंग का, महानील गुग्गुलु नीले रंगवाला, कुमुद गुग्गुलु कुमुद फल के समान रंगवाला, पद्म गुग्गुल माणिक्य के समान लाल रंग वाला तथा हिरण्य गुग्गुलु स्वर्ण यानि सोने के समान रंगवाला होता है| पर व्यवहारिक प्रयोग में आने वाला गुग्गुलु हल्का पीले वर्ण का निर्यास होता है, जो कि छाल से प्राप्त होता है औऔर सूखने पर भूरे धूसर रंग का हो जाता है| 

प्राकृतिक रूप से गुग्गुल भारत के कर्नाटक, राजस्‍थान, गुजरात तथा मध्य प्रदेश में सबसे ज्यादा उगाय जाते हैं| पर धीरे धीरे  भारत में गुग्गुल विलुप्‍तावस्‍था के कगार पर आ रहा है इसलिए बड़े पैमाने पर इसकी खेती करने की जरूरत है| भारत में गुग्गुल की मांग अधिक तथा उत्‍पादन कम होने के कारण अफगानिस्तान से गुग्गुल का आयात किया जाता है|

Also Read about Ragi in Hindi

कैसा होता हैं दिखने में गुग्गुल – How does Guggul look like?

नया गुग्गुल चिकना, सोने के समान, सुगन्धित, पीले रंग का होता है| पुराना गुग्गुल कड़वा, तीखा, सूखा, दुर्गन्धित, धूसर होता है| पूजा में धूप करने के लिए पुराना गुग्गुल ही इस्माल करते हैं आजकल, पर पहले के समय में नया गुग्गुल इस्तेमाल किया जाता था जो धूप और हवन के माध्यम से पुरे बातावरण को सुगन्धित और शुद्ध करता था|

आँखों के लिए फायदेमंद है गुग्गुल – Guggul Benefits for Eyes

अगर आप गुग्गुल को सुबह या शाम के समय त्रिफला के साथ सेवन करने हैं तो यह आपके आँखों के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है| उम्र चालीस के बाद से अगर हम यह लेना शुरू करें तो हमारे आँखों के ज्योति के लिए भी यह बहुत ही लाभकारी होता है|

एनीमिया के लिए भी फायदेमंद है गुग्गुल – Benefit of Guggul for Anemia

गुग्गुलु को रोज सुबह 15 दिनों तक शहद के साथ सेवन करने से एनीमिया जैसी समस्याय काफी कम हो जाती है| इसे गरम पानी के साथ या गरम दूध के साथ मिलाकर भी खाया जा सकता हैं जो कि बहुत ही फायदेमंद होता है| पर इस बारे में डॉक्टर की सलाह भी लेना सही होता है क्यों कि हर किसी कि शारीरिक क्षमता अलग अलग होता है|

दर्द और सूजन के लिए बहुत ही अच्छा है गुग्गुल – Benefit of Guggul as Pain relief remedy

गुग्गुल में मौजूद इन्फ्लेमेशन गुण दर्द और सूजन जैसे समस्या से छुटकारा देने में मदत करता है| इसके अलावा यह शरीर के नर्व को मजबूत बनाने में भी काफी अच्छी भूमिका निभाती है| बाजार में मिलनेवाले गुग्गुल चूर्ण को एक चम्मच सुबह-शाम गुनगुने पानी के साथ लेना किसी भी सूजन के लिए बहुत ही सही होता है|

गर्भाशय से जुडी समस्या में भी फ़ायदेदायक होता हैं गुग्गुल – Benefit of Guggul for Uterus problem

गर्भाशय से जुड़ें रोगों के लिए गुग्‍गुल एक बहुत ही सही दवा की तरह काम करता है| आयुर्वेद की अनुसार एक चम्मच गुग्गुल पाउडर को दिन में दोबार गुड़ के साथ लेना चाहिए पर इसके पहले आपको डॉक्टर की सलाह भी लेनी चाहिए क्यों कि वैसे तो यह हानिकारण बिलकुल भी नहीं है पर कई समय कई जटिल समस्या भी गर्भाशय में देखा जाता है, इसलिए आप इसे सेवन से पहले एकबार डॉक्टर की सलाह भी ले लें|

कॉन्स्टिपेशन सम्बन्धी समस्या के लिए फायदेमंद है गुग्गुल – Benefit of Guggul for Constipation

कॉन्स्टिपेशन समस्या के लिए गुग्गुल का प्रयोग काफी लाभदायक होता है| इसके लिए गुग्गुल चूर्ण को त्रिफला चूर्ण के साथ मिलाकर रात में हल्के गर्म पानी के साथ लें| इससे पुराना कॉन्स्टिपेशन निकाल ने में बहुत ही आसानी होती है और साथ ही यह शरीर के कई सारे टॉक्सिन को भी निकाल बाहर करता है|

एसिडिटी जैसी समस्या को भी करता है दूर गुग्गुल – Benefit of Guggul for Acidity

एक चम्मच गुग्गुल चूर्ण एक कप पानी में मिलाकर रख दें और फिर इसे कुछ देर बाद छान लें और इसका पानी सुबह सुबह खाने से यह अम्लीय यानि एसिडिटी समस्या को कम करने में मदत करता है| जिन्हे इस तरह के समस्या से बहुत ही ज्यादा परेशानी है उन्हें यह रोज करना चाहिए जो बहुत ही फ़ायदेदायक होता है|

मुंह के छाले के लिए भी लाभदायक है गुग्गुल – Benefit of Guggul Mouth ulcer

मुंह में किसी भी प्रकार का घाव हो तो गुग्गुल का इलाज सबसे खास होता है| गुग्गुल को मुंह में रखें या गर्म पानी में घोलकर दिन में दो से तीन बार कुल्ला व गार्गल करने से मुंह के अन्दर के घाव, छाले व जलन सही हो जाता है| दाँत सम्बन्धी समस्या के लिए भी इसका कुल्ला करना दाँत दर्द को कम कर देता है|

वायु को शुद्ध करता है गुग्गुल – Benefit of Guggul as an Air freshener

नारियल के खोल के साथ धूना और गुग्गुल मिलाकर जलाने से यह वायु को शुद्ध करता है एक प्राकृतिक तरीके से| अगरबत्ती में कई प्रकार के केमिकल होता है जो शरीर के लिए बहुत ही हानिकारक होता है इसके जगह अगर गुग्गुल के धूप से धूपन किया जाये तो यह हमारे शरीर के लिए भी हानिकारण नहीं होता और हमारे आसपास के वायु को भी बिषाणुमुक्त करता है|

किस किस तरह कर सकते हैं गुग्गुल का उपयोग – How to use Guggul

  • गुग्गुल को चूर्ण के तरह इस्तेमाल कर सकते हैं|
  • गुग्गुल को फिटकरी की तरह भी इस्तेमाल कर सकते हैं गरम पानी के साथ उबालकर|
  • गुनगुने पानी में भिगोकर भी यह इस्तेमाल कर सकते हैं|
  • दूध के साथ भी इसे एक एनर्जी बर्धक के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं|
  • प्राकृतिक धूप सामग्री रूप में भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं नारियल खोल के साथ जलाकर|

भारतीय भाषाओँ में गुग्गुल के नाम – Names of Guggul in different Indian Languages

  • संस्कृत – गुग्गुलु, देवधूप, जटायु, कौशिक, पुर, कुम्भोलूखलक, महिषाक्ष, पलङकषा
  • हिंदी – गूगल, गुग्गुलु
  • बांग्ला – गुग्गुल, मुकुल
  • कन्नड़ – गुग्गुल
  • गुजराती – गुगल
  • तेलुगु – गुग्गुलु
  • तमिल – मैशाक्षी, गुक्कुलु
  • मराठी – गुग्गुल

Reference – health.indiatimes

Guggul, Guggul benefits, Guggul in Hindi, Guggul helth benefits in Hindi, Helth benefits of Guggul in Hindi

Reviews

Guggul In Hindi
0.0 rating based on 12,345 ratings
Overall rating: 0 out of 5 based on 0 reviews.
Name
Email
Review Title
Rating
Review Content

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *